बादाम गिरी, भीगे बादाम एवं बादाम का तेल खाने के फायदे

बादाम के फायदे :-

लेटिन नाम – प्रूनस एमिग्डेलस

प्रकृति – गर्म

बादाम के तेल के फायदे :-

बादाम प्रोटीन का स्त्रोत हैं | दिन का आरम्भ बादाम से किया जाए, तो स्फूर्ति और ताज़गी हर समय भरी रहती है| लेमन, टी, कॉफी, चाय पीने के बजाय सुबह बादाम खाया जाए, तो यह कई रोगों से हमारी रक्षा करता है। कैंसर, दिल की बीमारियों और मोतियाबिंद से बचाता है। पतले छिलके वाले बादाम ज्यादा उपयोगी माने जाते हैं । इन्हें कागजी बादाम कहा जाता है कड़वे बादाम नहीं खाने चाहिये। बादाम से तेल भी निकाला जाता है | बादाम के तेल को बादाम रोगन भी कहते हैं | बादाम का तेल ठंडा, वात और पित्तनाशक एवं हल्का होता हैं | बादाम के तेल का सेवन आधा चम्मच तेल जितना गर्म दूध में पिया जा सके, उतने दूध में मिलाकर एक बार रात को पीना चाहिए | बादाम के तेल में एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन ‘ई’ होता हैं |

पढ़िए –  दूध के साथ छुहारा

बादाम भिगोकर छिलका हटाकर, पीसकर ले सकते हैं। तेल के रूप में भी ले सकते है प्राय: कहा जाता है कि बादाम का छिलका पचता नहीं है, इसलिए छिलका हटाकर ही काम में लें। बादाम खाने से पहले भिगोना तथा छीलना चाहिए, इस पद्धति के पीछे कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। सच्चाई यह है कि फाइबर तत्वों का महत्वपूर्ण भाग बादाम की बाहरी यानि त्वचा में ही होता है, जो अच्छी पाचन-क्रिया के लिए महत्वपूर्ण है। कागजी बादाम सबसे अच्छा होता है। बादाम ममशीतोष्ण है। यह सर्दी, गर्मी में खाया जा सकता है।

पढ़िए – शराब कैसे छुड़ाएं

 

 

बादाम से करें कई असाध्य रोगों का उपचार :-

सर्दी –सर्दी के मौसम में बादाम शरीर को ऊर्जा देते हैं |

गर्मियां – गर्मियों में सौंफ, मिश्री, कालीमिर्च के साथ इसका सेवन ठंडक देना है। आँखों की रोशनी बढ़ता हैं। गर्मी के आलस्य को भगाकर तरोताजा करता है – बादाम |

स्मरण शक्तिवर्धक – बादाम का तेल शारीरिक व स्मरण-शक्ति बढ़ाता हैं | बुढ़ापे में स्मरण-शक्ति दुर्बल होती जाती हैं | बादाम का तेल स्मरण-शक्ति यथावत बनाये रखने में सहायक होता हैं | बादाम दुर्बल मस्तिष्क को शक्ति देता हैं । शरीर को स्वस्थ रखता हैं |

गर्भवती औरतों के लिए भी यह लाभदायक है | बादाम का तेल स्फूर्ति और नई ताज़गी देता है | बादाम में पोषक तत्व मांस से अधिक होते है |बादाम का तेल उपयोगी होता है। इस तेल में ऑलिन की मात्रा बहुत होती है। बादाम के तेल की मालिश सिर में करने से दिमाग ठंडा और हल्का रहता है। दिमाग ताजा रहता है तथा धातु वृद्धि होती है।

वीर्य और शारीरिक ताकत बढ़ाने के लिए बादाम की दस गिरी पानी में भिगोकर, छिलके उतारकर, पीसकर एक गिलास दूध में मिलाकर उबालें। उबलने पर एक चम्मच घी और स्वादानुसार मिश्री पीसकर डालें। हल्का गर्म रहने पर प्रातः पियें। इससे सिरदर्द भी ठीक हो जायेगा। बादाम का तेल निमोनिया में लाभ करता है। कब्ज़ दूर कप्ता है। लगातार लम्बे समय तक सेवन करने से हिस्टीरिया में लाभ करता है।

त्वचा – बादाम बच्चों की हड्डियों को शक्ति देता है | बादाम के सेवन से बच्चे बुद्धिमान होते हैं और कमजोर नहीं रहते।

कोलेस्ट्रॉल – बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल के कारण कई बीमारियों को जन्म देता है। यदि शुरू से हीं खान पान  नियंत्रित रखा जा सकता है। बादाम को नित्य भोजन में शामिल कर कई बीमारियों से बचा जा सकता है | पांच बादाम नित्य खाएं जाए तो कोलेस्ट्रॉल को करीब पांच प्रतिशत कम किया जा सकता है | बादाम में कैलोरीज मोनोअनसैचुरेटेड फैट पाया जाता है जो स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है | बादाम को पानी में भिगोकर खाएँ |

हृदय रोग – बादाम के तेल को नियमित पीने से हृदय रोग दूर रहता है | बादाम कोलेस्ट्रॉल कम करके माँसपेशियों और कोशिकाओं को शक्ति बढ़ता है | पाँच बादाम, 5 काली मिर्च, तुलसी के पत्ते धोकर, पीसकर चौथाई कप पानी में मिलाकर नित्य पीने से ह्रदय रोगों में लाभ होता है तथा ताकत बढ़ती है | हृदय के रोगी नित्य दस बादाम, दस मुनक्का खाने के लाभ भिगोकर पीसकर आधा गिलास पानी में घोलकर पियें |

बाल गिरना – बादाम सिर की त्वचा का पोषण करता है | अंगुली के पोरवो से सिर में बादाम के तेल की हल्की-हल्की मालिश करें और बादाम के तेल का सेवन करें | इससे बालों की जड़े मजबूत होकर बाल गिरना बंद होगा |

त्वचा रोग – व्यक्ति की उम्र के साथ त्वचा की कार्य-प्रणाली मंद पड़ती जाती है, त्वचा का लचीलापन कम हो जाता है | कई कोशिकाओं का निर्माण कार्य धीमा पड़ जाता है | मृत कोशिकाओं की अधिकता के कारण त्वचा में झुर्रियां पड़ने लगाती हैं | त्वचा की इस कार्य-प्रणाली को सुचारु रूप से चलाने के लिए विटामिन ‘ई’ की आवश्यकता होती हैं |  विटामिन ‘ई’ त्वचा का लचीलापन बनाए रखता हैं | विटामिन ‘ई’ त्वचा रोगों में लाभप्रद के अलावा सौंदर्यवर्धक भी हैं | विटामिन ‘ई’ त्वचा को कोमल, चिकनी और सुन्दर बनाये रखता हैं | त्वचा का रूखापन दूर करके जवानों जैसी चमक पैदा करता है | बादाम के तेल के सेवन के साथ-साथ रात को सोते समय चेहरे व त्वचा पर मालिश करें | बादाम का तेल और ग्लिसरीन (1:4) भाग मिलाकर त्वचा पर मलें | इससे त्वचा बहुत कोमल रेशम जैसी हो जायेगी |

चार बादाम भिगोकर छिलका हटाकर पीसकर एक चम्मच शहद में मिलाले | इस अनुपात में ज्यादा मात्रा में भी बना सकते हैं | इसे चेहरा व जितनी त्वचा रूखी, सुखी हैं, उस पर मलें |

कब्ज़ – बादाम रोगन एक चम्मच गर्म दूध में मिलाकर सुबह, रात पीने से कब्ज़ दूर हो जाती हैं | पढ़े – कब्ज़ में क्या न खाएं 

मधुमेह – बादाम में शक्कर बुहत कम होती हैं | मधुमेह के रोगी का सेवन कर सकते हैं | मधुमेह के रोगियों के लिए यह लाभदायक हैं | पढ़िए – मधुमेह रोग उपचार