चेहरे से कील मुंहासे हटाने के अचूक घरेलू उपाय

चेहरा व्यक्तित्व का दर्पण माना जाता है | हमारे शरीर में हमारा चेहरा ही वह भाग है जिसके आधार पर एक व्यक्ति दूसरे को पहचानता हैं और जिसके आधार पर किसी को खूबसूरत व बदसूरत कहा जाता है | कई रोग ऐसे है जो चेहरे की खूबसूरती को नष्ट कर देते हैं | बढ़ते पर्यावरणीय प्रदुषण से भी चेहरे पर अनेक रोग उत्पन्न हो जाते हैं

कील- मुंहासे के कारण व लक्षण

युवावस्था को ओर अग्रसर युवाओ कें लिए कील व मुंहासे की समस्या आम बात है। यह रोग त्वचा में स्थित सीबेशस ग्रंथियों द्वारा स्रावित सीबम नामक तैलीय स्राव की कारण उत्पन्न होता हैं। किशोरावस्था में शरीर में हुए परिवर्तन इन ग्रंथियों को उत्तेजित कर देते हैं , जिससे सीबम के स्राव में वृद्धि हो जाती है। त्वचा में जगह-जगह सीबम का जमाव होने लगता है व त्वचा सूजने लग जाती है। यही सीबम वायु के संपर्क से काला पड़ जाता है और कील का रूप धारण कर लेता है। इससे त्वचा में निशान भी बन जाते है |

पढ़े – आँखों में पानी आने के कारण एवं उपचार

कील- मुंहासे का उपचार

नीबू – नीबु त्वचा सम्बन्धी रोगों की ही भांति सटीक औषधि हैं | कील मुंहासे होने पर नीबू के रस में उससे चार गुना ग्लिसरीन मिलकर चेहरे पर रगड़ने से चेहरा निखर जाता हैं | एक चम्मच मलाई में लगभग आधा निम्बू निचोड़कर कर चेहरे पर मलहम की तरह मलने से कील मुंहासे दूर हो जाते है | कागजी नींबू के छिलकों को स्नान से पूर्व मुंह पर धीरे-धीरे मलने और कछ देर बाद गुनगुने पानी से मुंह धोने से भी कुछ ही दिनों में कौल-मुंहासे ख़त्म हो जाते हैं।

पढ़े – काजू खाने के फायदे और नुकसान

नीबू के रस में सममात्रा में गुलाबजल मिलाकर चेहरे पर लगाएं। आधे घंटा बाद चहरा ताज पानी से धो लें। 10-15 दिनों तक इस रस के प्रयोग से कील- मुंहासे खत्म हो जाते हैं। केवल नीबू के रस को चेहरे पर लगाने से भी कील- मुंहासों पर चमत्कारी असर होता हैं।

जायफल – जायफल को कच्चे दूध में किसी पत्थर पर इतना घीस लें कि उसका मुंह पर लेप किया जा सके। मुह पर लेप करने के थोड़ी देर बाद इसे सूखने दें। फिर हाथ से रगड़कर उबटन की तरह छुड़ा लें और गुनगुने पानी से मुंह धोकर पोंछ लें। दिन में एक-दो बार इस क्रिया को करने रे ही मुंहासे दूर हो जाते हैं। चाहें तो जायफल को घिसकर रात को सोते  समय मुहांसो लेप कर  ले | लेप करने के तत्काल बाद इसे धो देना चाहिए | इस  प्रयोग से भी कील-मुहासे व काले दाग मिट जाते है।

पढ़े – भोजन के हानिकारक संयोग

खुबानी – खुबानी के अनेक भाग सौंदर्य प्रसाधव के रूप में प्रयोग में लाए जाते हैं

देश- विदेश में प्राकृतिक वस्तुओं से बनाए जाने वाले सौंदर्यप्रसाधक तत्त्वों में खुबानी को विशेष स्थान प्राप्त है। चेहर पर होने वाले  कील- मुहांसो के लिए खुबानी के गूदे को मास्क के रूप में प्रयोग किया जाता हैं |

पपीता – कच्चे पपीते का रस निकालकर चेहरे पर लगाने से कील- मुंहासे में पस नहीं पड़ता तथा वे सूखकर समाप्त हो जाते हैं |

संतरा – संतरे के छिलकों का पाउडर तैयार करके हमेशा घर में रखें कील- मुंहासे मिटाने के लिए इस पाउडर को गुलाबजल में घोलकर लेप लगा लें | रात को चेहरे पर लेप लगाकर सो जाएं और स॒बह घो ले | यह प्रयोग कुछ ही दिन तक करने पर चेहरा मुहासों से मुक्त हो जाएगा।

मूंगफली – मूंगफली के तेल से यदि नियमित चेहरे पर मालिश की जाए तो कील- मुंहासे होना बंद हो जाते हैं।

नारियल – नारियल का पानी दिन में 2-3 बार चेहरे पर लगाते रहने से कील- मुंहासे समाप्त हो जाते हैं।

बादाम – बादाम के पत्तों को पीसकर कील- मुंहासे पर लगाने से काफी लाभ-मिलती है। इसी प्रकार बादाम के छिलकों को महीन पीसकर पानी में घोलकर चेहरे पर लेप करें। इससे भी कील- मुंहासे दूर हो जाते है। पढ़े – बादाम का तेल खाने के फायदे